शुक्रवार, 1 दिसंबर 2017

783

मंजूषा मन
तुम मन को भाते हो
मन में बसकर तुम,
कितना इठलाते हो?
पहले ना खबर हुई
मन में आप बसे,
तब मुश्किल जबर हुई।
सन्नाटा गहरा था
तेरे आने से
टूटा हर पहरा था।
जन्मों तक तुम मिलना
मेरे मन बस कर,
तुम फूलों से खिलना।
होता जो अच्छा है
तुम विश्वास करो
ये रिश्ता सच्चा है।

-0-

11 टिप्‍पणियां:

Shiam ने कहा…

mnjusha ji ka Mahiyaa bhut hi sundr laga. thode se shbdon men sab kuchh kaise kaha jataa hai aapne Kavi Viharee laal ko bhii koson peechhe chhod diyaa hai. Mdhur bhvone ke lie badhaaee. Shiam Tripathi Hindi Chetna

Vibha Rashmi ने कहा…

जन्मों तक तुम मिलना
मेरे मन बस कर,
तुम फूलों से खिलना।

मंजूषा मन जी के माहिया सरस व माधुर्य -पूरित हैं । बहुत बधाई ।

Dr. Surendra Verma ने कहा…

ललित गेय माहिआ । साधु वाद ।सु. व.।

Unknown ने कहा…

मंजूषा जी बहुत सुंदर माहिया, हार्दिक बधाई ।

Jyotsana pradeep ने कहा…

मन जी , मन को सुकून मिला आपके माहिया पढ़कर ..
बहुत - बधाई आपको !!

मंजूषा मन ने कहा…

Shiam जी आपका बहुत बहुत धन्यवाद.. आपने माहिया पसन्द किये और अपने विचार व्यक्त किये

मंजूषा मन ने कहा…

आपका बहुत बहुत आभार विभा जी... स्नेह बनाये रखिये

मंजूषा मन ने कहा…

हार्दिक आभार आपका पूर्णिमा जी

मंजूषा मन ने कहा…

बहुत बहुत आभार आपका सुनीता जी

मंजूषा मन ने कहा…

ज्योत्स्ना जी आपका बहुत बहुत आभार

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

बहुत अच्छे माहिया हैं सभी...हार्दिक बधाई...|