गुरुवार, 15 अगस्त 2019

880


कमला निखुर्पा

ढूँढे बहिन
भैया की कलाइयाँ
नेह की डोर 
बाँधती चहूँ ओर
छूटा पीहर 
बसा भाई विदेश 
सूना है देश 
आओ घटा पुकारे 
राह निहारे 
गाँव की ये गलियाँ 
नीम की छैयाँ
गर्म चूल्हे की रोटी 
गागर-जल 
आँगन की गौरैया 
बहना तेरी 
लगे सबसे न्यारी 
सोनचिरैया 
पुकारे भैया-भैया !!
सज-धजके
रँगी चूनर लहरा
घर भर में
पैंजनिया छनका 
बिजुरी बन 
चित्र;गूगल से साभार
ले हाथों में आरती 
रोली-तिलक
माथे लगा अक्षत 
भाई दुलारे 
डबडबाए नैन 
छलक जाए  
पाके एक झलक
जिए युगों तलक !!!
-0-

18 टिप्‍पणियां:

अनिता मंडा ने कहा…

बेहद ख़ूबसूरत

dr.surangma yadav ने कहा…

सुन्दर, अति सुंदर!

Seema Singh ने कहा…

वाह! बहुत सुंदर...

Dr. Shailja Saksena ने कहा…

मन भर आया, बहुत सुंदर!

Pushpa mehra ने कहा…


बहुत ही भावपूर्ण सुंदर चोका है |
पुष्पा मेहरा

sushila ने कहा…

बहुत मनभावन चोका है आदरणीय कमला जी।
रक्षाबंधन की बधाई, शुभकामनाएँ ।

sushila ने कहा…

बहुत मनभावन चोका है आदरणीय कमला जी।
रक्षाबंधन की बधाई, शुभकामनाएँ ।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह

Krishna ने कहा…

बहुत सुंदर, मन को छू गया।

प्रीति अग्रवाल ने कहा…

वाह! बहुत खूब कमल जी!

Kamlanikhurpa@gmail.com ने कहा…

धन्यवाद सभी का

Sudershan Ratnakar ने कहा…

भावपूर्ण चोका।बधाई कमला जी।

सविता मिश्रा 'अक्षजा' ने कहा…

भावपूर्ण, बहुत बढ़िया

Dr. Purva Sharma ने कहा…

सुंदर रचना
हार्दिक शुभकामनाएँ

Satya sharma ने कहा…

बहुत ही सुंदर , भावपूर्ण सृजन

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

बहुत भावपूर्ण और सुंदर...बहुत बधाई

Jyotsana pradeep ने कहा…

अति सुंदर,भावपूर्ण सृजन.....बधाई कमला जी!!

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

मन को छू गया चोका, बहुत बधाई कमला जी.