मंगलवार, 16 जुलाई 2024

1185

 

कृष्णा वर्मा 

1

साँसों को सेंक दिला 

हौके भर-भरके 

अंतर्मन बरफ़ हुआ। 

2

सपनों ने विष घोला 

तारी जगराते 

दिल ने जब दुख खोला।

3

नज़रों से नज़र मिली 

तिरछी चितवन ने 

सारी सुध-बुध हर ली।

4

चौमुख तेरा फेरा

खाली काग़ज़ पर 

जब नाम लिखा तेरा।

5

मुख पर सुख की लाली

नैन कमंडल तो 

अब भी ख़ाली-ख़ाली। 

6

दिल में सुलगें यादें 

आँसू सूखें ना

जब याद करूँ वादे। 

7

किसने भड़काया है

परखे बिन तूने

हमको बिसराया है। 

8

आसान नहीं जीना 

झूठा मुसकाके 

पीड़ाओं को पीना। 

9

चैती जब गाती है 

दिल के चोरों को 

रुत जमके भाती है। 

10

आमों पे बौर पड़े 

याद डसे तेरी

दिल हो टुकड़े-टुकड़े।

11

आँखों में रात गई 

मन में तुम घुमड़े 

जब-जब बरसात हुई। 

-0-

बुधवार, 10 जुलाई 2024

1184

खेल

रश्मि विभा त्रिपाठी

छुपाछुपी का



खेल बड़ा सुन्दर 
आसमान में
था चला रातभर 
चहककर
बादल ने बाँध दी
सफ़ेद पट्टी
चाँद की आँखों पर
फिर भागा वो
ढूँढो तो’ कहकर 
तारों ने दी ख़बर।

-0-

माहिया- रश्मि विभा त्रिपाठी
1
हम इतना ही चाहें!
हाथ गहे रखना
पथरीली हैं राहें।
2
गंगा का है पानी!
बेटी की जग ने
पर कदर नहीं जानी।
3
कितने छाले पग में
ढूँढे से न मिली
भलमनसाहत जग में।
4
बेमतलब जतन हुआ
अब तो सारा ही,
रिश्तों का पतन हुआ।
5
अपनेपन का किस्सा
अब तो ख़त्म हुआ
बस माँगें सब हिस्सा।
6
है मेल- मिलाप कहाँ
पहले- सा जग में,
हर मन में पाप यहाँ।
7
सबने बस खेल रचा
माही- बालो सा
अब ना वो मेल बचा।
8
अब वो सुर- ताल नहीं
दुनिया में अब वो
सोनी- महिवाल नहीं।
9
जग में है आज नई
रीत कपट की ही
रिश्तों की लाज गई।
10
कब प्रीत निभाते हैं?
एक दिखावे की
सब रीत निभाते हैं।
11
अपनों का दोष नहीं
खेल नियति के सब
करना तुम रोष नहीं।
12
बातों में उलझाते
रिश्ते जीवन की
उलझन कब सुलझाते?
13
रिश्ता ये साँचा है
मौन अधर का भी
तुमने तो बाँचा है।
14
आए थे मोड़ नए
बीच डगर हमको
फिर साथी छोड़ गए।
15
कैसा दिन- रात गिला?
राम तलक को भी
जग में वनवास मिला!
16
मैं तो तेरी राधा!
अपने पथ की तू
ना समझ मुझे बाधा।
17
ना कशिश रही दिल में
दुनिया सिमट गई
अब तो मोबाइल में!
18
जो भी कुछ भरम रहा
टूटा पलभर में,
रिश्तों का करम रहा।
19
तोड़ा नाता सबसे
हर कोई अब तो
मिलता है मतलब से।
20
क्या जादू छाया है!
कल जो अपना था
वो आज पराया है।
21
उसके हर दावे का
सच था बस ये ही
था प्यार दिखावे का।
22
तुममें जौलानी है
तो फिर सच मानो
पत्थर भी पानी है।
23
पग- पग पर खतरे हैं
पर सय्यादों ने
बुलबुल के कतरे हैं।
24
बेड़ी में जकड़ गए
कैसी किस्मत थी
मिलते ही बिछड़ गए।
25
कोयलिया कूक उठी
जाने क्यूँ उस पल
जियरा में हूक उठी।
26
कब साथ निभाते हैं
कहने भर के ही
सब रिश्ते- नाते हैं!
27
दिन कितने हैं बीते
अब तो आ जाओ
मैं हारी, तुम जीते।
28
ये अजब कहानी है
रिश्तों में अब तो
बस खींचा- तानी है।
29
ये दिल का लग जाना!
शम्मा से पूछो
क्यों जलता परवाना?
30
है कौन ख़ुदा जाने!
जिसने बदल दिए
अब चाहत के माने।

-0- जौलानी



रविवार, 23 जून 2024

1183-प्रेम

भीकम सिंह


1

आलिंगन में

प्रेम की स्मृतियाँ हैं

कई साल की

तुहिन झर रहा

रात मध्यकाल की।

2

घुप्प  अँधेरा

कहीं ना कोई तारा

ऐसा है प्यार

मेरा और तुम्हारा

कैसे होगा गुज़ारा।

3

तुम हू- ब- हू

ख़्वाबों में उतरती

लेके भादों-सा

ऑंखें तब ढूँढती

वो, सावन यादों का।

4

मेरे ही लिए

तुम खिलखिलाओ

आओ निकट

देखो, प्रेम की नदी

छोड़ रही है तट।

5

तुम्हारा प्रेम

वासना पर टिका

कित्ती रातों में

अनकहा ही रहा

प्रेम, उन रातों में।

-0-

 

गुरुवार, 20 जून 2024

1182-ज़िन्दगी बौनी

- डॉ. जेन्नी शबनम 



1.
दहलीज़ पे
बैठा राह रोकके 
औघड़ चाँद 

न आ सका वापस 

मेरा दर्द या प्रेम।

 2.

ज़िन्दगी बौनी
आकाश पे मंज़िल
पहुँचे कैसे?
चारों खाने चित है
मन मेरा मृत है।
3.

गहन रात्रि
सुनसान डगर
किधर चला?
मेरा मन ठहर
थम जा तू इधर।
4.

तुम्हारा स्पर्श
मानो जादू की छड़ी
छूकर आई
बादलों को प्यार से 
ऐसी ठण्डक पाई।
5.

ग़ायब हुए
सिरहाने से ख़्वाब
छुपाया तो था
काल की नज़रों से,
चोरी हो गए ख़्वाब। 

6.

कोई न सगा 
सब देते हैं दग़ा
नहीं भरोसा,
अपना या पराया

दिल मत लगाना। 
7.

मैंने कुतरे
अपने बुने ख़्वाब

होके लाचार,   

पल-पल मरके

मैंने रचे थे ख़्वाब।  

 8.

मैं गुम हुई
मन की कंदराएँ
बेवफ़ा हुईं,

कोई तो होगी युक्ति   

जो मुझे मिले मुक्ति।  

9. 
मेरे सपने 

आसमाँ में जा छुपे 

मैं कैसे ढूँढूँ

पाखी से पंख लिये 

सूर्य ने है जला  

10. 
मेरी तिजोरी
जिसे छुपाया वर्षों
हो गई चोरी
जहाँ ख़ुशियाँ मेरी
छुपी रही बरसों।

-0-

रविवार, 16 जून 2024

1181

माहिया

रश्मि विभा त्रिपाठी

 1


आसार तलातुम के!

मुरझा ना जाएँ

ये फूल तबस्सुम के।

2

कैसी दुश्वार घड़ी

घर के आँगन में

ऊँची दीवार खड़ी!

3

मन को यूँ बहलाया

गम की धूप तले

खुशियों का है साया!

4

पलकों पे शबनम है

मन भीगा- भीगा

यादों का मौसम है!

5

रुत बदलेगी तेवर

खो न कहीं देना

मुस्कानों का जेवर!

6

जादू है जाने क्या

पल- पल बदल रहा

अब रंग जमाने का!

7

अब चन्दन- सी काया

सौरभ खो बैठी

सबको विष ही भाया।

8

बंधन है वो मन का

जैसा बंधन था

मीरा- मनमोहन का!

9

सपने सब टूट गए 

पथ के साथी सब

पथ में ही छूट गए!

10

चाहत है शय प्यारी

शामिल मत करना

इसमें दुनियादारी!

11

मन के हर कोने से

यादों के मोती

चमके हैं सोने- से!

12

सुख ढलती छाया है

मत घबराना तू

ईश्वर की माया है!

13

जब संग दुआएँ हों

अँधियारे में भी

पुन- नूर शुआएँ हों!

14

मत करना जिरह कभी

लगके फिर न खुले

रिश्तों की गिरह कभी।

15

अपनापन किसको है

रिश्तों- नातों की

बेकार तवक़्क़ो है!

16

सब खेल नसीबों के

कल जो मेरा था

अब संग रक़ीबों के!

17

दुनिया में कौन सगा

जिसको देखो वो

देता अब सिर्फ़ दग़ा।

18

माना तेवर तीखे

मगर समय से हम

कितना कुछ हैं सीखे!

19

हम लोग शराफत के

दिन यूँ बसर करें

मारे हैं आफत के!

20

लाचार ख़ुलूस यहाँ 

इसका तो निकला

हर बार जुलूस यहाँ!

21

गमले में बासी है

फूल मुहब्बत का

माहौल सियासी है!

22

रहना तुम बच- बचके

आज जमाने में

सब दुश्मन हैं सच के!

23

गालों पर जो दिखते

आँसू वो बच्चे

घर में न कभी टिकते!

24

आँखों में पलते हैं

सपने हिम्मत के

सब खतरे टलते हैं।

25

कैसी है यह बस्ती

आज बचा पाना

मुश्किल अपनी हस्ती!

26

विधिना का लेखा है

कब क्या हो जाए 

यह किसने देखा है!

27

रिश्तों का है मेला

है व्यवहार मगर

सबका ही सौतेला!

28

दिल तो सब ले लेंगे

समझ खिलौना पर

सब इससे खेलेंगे!

29

राहों पर बढ़ते हैं

जो भी चाहत की

सूली पर चढ़ते हैं!

30

सन्नाटे गहरे हैं

किससे हाल कहें

सब अंधे- बहरे हैं!

 -0-