सोमवार, 5 सितंबर 2016

728




प्रेरणा शर्मा
1
नन्ही चिड़िया
कचनार के फूल

प्रेरणा शर्मा

जाती- लौटती
बारी -बारी कान में
कहे बात मन की।
2
छोटी चिड़िया
जा फुनगी-फुनगी
इठलाती है
संग हवा के डोले
मन के झूले झूले।
3
फूल-पाँखुरी
सुनहली तितली
प्रीत पालती
चंचलता से उड़े
बन बाग़ की रानी।
4
घर-आँगन
रौनक़ बनकर
यहाँ से वहाँ
चिड़िया-सी चहके
बिटिया हरदम।
5
सोन चिरैया
तिनके-तिनके से
नीड़ बनाए
सुख-पल बाँटती
गाए गीत प्यार के।
6-
गौरैया -संग
मनवा उड़ चला
गगन मापे
प्रीत- भरा जहान
आँचल में भरने।
7
मन बावरा
उड़े ऊँचे नभ में
बादल छाँव
आशियाँ बनाकर
लौटे न धरा पर।
8
विधु वदना
छितराती चन्द्रिका
निशा में जागे
पहन पायलिया
छम-छम नचती।
9
जीवन-गीत
वीणा के तार बजें
हौले-हौले से
झन-झन झंकृत
सजे स्वप्न संगीत ।
10-
अम्बर ओढ़े
तारों- भरा आँचल
चंद्रमा थामे
विभावरी- दामन
संग-संग झूमता।
11-
दूधिया प्रभा
चन्द्र- किरणों से
रात नहाई
रजत पटल को
पहन इतराई।
12
भोर जगाती
अर्श-फलक पर
आफ़ताब के
अधरों पर स्मित
अरुणोदय लाली।
13
तारो की छाँव
सूरज संध्या- काल
गोधूलि-वेला
विश्राम कर रहा
दे दिवस विदाई।
-0-

15 टिप्‍पणियां:

Vibha Rashmi ने कहा…

प्रेरणा जी बहुत सुंदर शब्दों में प्रकृति के सेदोका रचे हैं । जो मनभावन हैं । भावना जी आपको बहुत-बहुत बधाई ।
स्नेह विभा रश्मि

Dr.Purnima Rai ने कहा…

प्रेरणा जी...आनन्द आ गया पढ़कर....बेहतरीन सृजन की बधाई स्वीकारें

Dr.Purnima Rai ने कहा…

प्रेरणा जी...आनन्द आ गया पढ़कर....बेहतरीन सृजन की बधाई स्वीकारें

Anita Manda ने कहा…

प्रेरणा जी बहुत सुंदर चित्र उकेरे हैं आपने, सजीव दृश्य आँखों के सामने आ गए।
कचनार के फूल तो बहुत ही ज्यादा खूबसूरत।
बधाई

Anita Lalit (अनिता ललित ) ने कहा…

सभी ताँका अत्यंत सुंदर, प्रक्रति के ख़ूबसूरत रंग बिखेरते ! हार्दिक बधाई आ. प्रेरणा शर्मा जी !

~सादर
अनिता ललित

Unknown ने कहा…

वाहह्ह्ह्ह् प्रेरणा जी बहुत सुंदर हार्दिक बधाई सभी टाँका बहुत उम्दा

Sudershan Ratnakar ने कहा…

प्राकृतिक छटा बिखेरते बहुत सुंदर ताँका। बधाई।

Krishna ने कहा…

अति सुन्दर ताँका...प्रेरणा शर्मा जी आपको हार्दिक बधाई।

सविता अग्रवाल 'सवि' ने कहा…

वाह प्रेरणा जी प्रकृति के रंग में सने खूबसूरत तांका हैं हार्दिक बधाई |

rbm ने कहा…

प्रकृति पर आधारित सभी ताँका बहुत अच्छे लिखे हैं प्रेरणा जी बधाई |पुष्पा मेहरा

ज्योति-कलश ने कहा…

बहुत मोहक प्रस्तुति ...हार्दिक बधाई आपको !!

Manju Gupta ने कहा…

सुंदर अनुभूतियों से ओतप्रोत प्रकृति के हाइकु .
बधाई .

Unknown ने कहा…

Beautiful

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

प्रकृति की मनोहारी छटा बिखेर दी है आपने इन मनोहारी पंक्तियों में...मेरी हार्दिक बधाई स्वीकारें...|

Jyotsana pradeep ने कहा…

सभी ताँका अत्यंत सुंदर प्रेरणा शर्मा जी !कचनार के फूल तो बहुत मोहक ... हार्दिक बधाई!