बुधवार, 27 जुलाई 2022

1054


1-रश्मि विभा त्रिपाठी

1

मिला उन्हीं से

मधुमय संगीत

मौन की तोड़ी रीत

मेरी उनकी

जन्म- जन्म की प्रीत

मन को बाँचें मीत।

2

मीठी वाणी से

मेरा विषाद हरें

मोह का भाव भरें

वे मंत्रमुग्धा

जादू मन पे करें

बोलें तो फूल झरें।

3

नेह तुम्हारा

न्यारा इत्र लुटाए

जीवन महकाए

मन- मरु में

मधुमास ले आए

प्रिय! प्राण हर्षाए।

4

धन्य जो पाया

प्रिय का प्रोत्साहन

प्रेम- भाव पावन

दुर्भाग्य! देखूँ

द्वेष का ही हवन

धू- धू औरों का मन।

5

प्रिय तुमने

प्रार्थना गीत गाए

प्राण मेरे जिलाए

भावप्रवण

मन तुमको ध्याए

मोल चुका न पाए।

6

समृद्ध हुआ

मन का कोना रिक्त

मधु भाव, न तिक्त

मिला प्रिय का

आशीष नेहसिक्त

माँगूँ क्या अतिरिक्त।

7

मुझे देते हैं

नित नव आशाएँ

करके कामनाएँ

ये उपकार

प्राण कैसे चुकाएँ

प्रिय की लें बलाएँ।

8

रोक लेता है

पीड़ाओं का प्रहार

प्रिये तुम्हारा प्यार

धमनियों में

नित्यप्रति संचार

होता हर्ष अपार।

9

प्रिय तुम्हीं से

मेरा जीवन- सार

मिला मुझे आधार

भूलकरके

मैं सकल संसार

तुम्हीं में एकाकार।

10

दुख का रोग

जो हो असरदार

मेरा तीमारदार

पल में करे

पीड़ा का उपचार

प्रिये तुम्हारा प्यार।

11

सादा मन पे

चले रंग लगाने

हरगिज न माने

मैं सराबोर

आए प्रिय लुटाने

आनंद के खज़ाने।

-0-

2-कपिल कुमार

1

नापों अगर

लेके प्रेम-पैमाना

मिलेगा सदा

प्रेम से भरपूर

हृदय मेरा

इसके अतिरिक्त

तुम्हारे लिए

ईर्ष्या का क्षेत्रफल

शून्य से थोड़ा नीचे।

2

कर रहा हूँ

प्रेम-अनुप्रयोग

बना रहा हूँ

प्रेम त्रिज्याएँ खींच

सुन्दर से दो

संकेंद्री-प्रेम-वृत्त

जिसके मध्य

परिधि-परिबद्ध

समस्त भाग

रखेगा सदा शून्य

ईर्ष्या का क्षेत्रफल। 

3

छोड़के गंगा

पंच प्रयाग, घूमें

देश-विदेश

हिमालय से लेके

बंगलादेश

पीछे छोड़के गई

तटों की पीड़ा

अकेली ही दौड़ती

ना कोई वीजा

होकरके उदास

गंगा के घाट

भगीरथ की देखें

आठों पहर बाट। 

-0-


11 टिप्‍पणियां:

भीकम सिंह ने कहा…

सुन्दर सेदोका और चोका, दोनों रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएँ ।

Vibha Rashmi ने कहा…

रश्मि विभा जी और कपिल कुमार जी के सुन्दर सेदोका एवं भावमय चोका रचना के लिये दिली बधाई और शुभकामनाएँ ।

Anita Lalit (अनिता ललित ) ने कहा…

प्रेममय सेदोका एवं चोका! हार्दिक बधाई रश्मि जी व कपिल जी!
सादर
अनिता ललित

बेनामी ने कहा…

बहुत सुंदर सेदोका और चोका। रश्मि जी एवं कपिल कुमार जी को हार्दिक बधाई। सुदर्शन रत्नाकर

Anima Das ने कहा…

प्रेमभाव से परिपूर्ण, दर्शन एवं शून्य भाव से सिक्त समस्त रचनाएँ बहुत सुंदर हैं...

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

बहुत सुन्दर सेदोका और चोका. रश्मि जी और कपिल जी को बधाई.

प्रीति अग्रवाल ने कहा…

सुंदर रचनाओं के लिए रश्मि जी और कपिल जी को बधाई!

Rashmi Vibha Tripathi ने कहा…

आदरणीय कपिल जी को सुंदर चोका सृजन के लिए हार्दिक बधाई

Rashmi Vibha Tripathi ने कहा…

सेदोका प्रकाशन के लिए आदरणीय सम्पादक द्वय का हार्दिक आभार।
आप सभी आत्मीय जन की टिप्पणी का हृदय तल से आभार।

सादर

Gurjar Kapil Bainsla ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Gurjar Kapil Bainsla ने कहा…

रश्मि विभा त्रिपाठी जी को सुंदर सेदोका रचने के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ। मेरे चोका प्रकाशित करने के लिए संपादक द्वय का हार्दिक आभार।