सोमवार, 12 नवंबर 2018

840


1
बड़ी भीड़ है
आँसुओं के गाँव में,
यादों का काँटा
अनायास आ चुभा
छालों-भरे पाँव में।
-डॉ.सुधा गुप्ता
2
भोर-अधर
छाए नयन-कोर
या लाज घनी
निर्झर-सा गूँजा जो,
वह स्वर था तेरा।
-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
3
आहट सुन
टहनी बैठा पिक
उड़ गया है,
वह नहीं लौटेगा
वृक्ष बहुतेरे हैं ।
-डॉ.कुमुद बंसल
4
ख़ामोश बड़ा
गाँव का अँधियारा
सुने कहानी-
थम जाएँ साँसें भी
सहमे उजियारा।
-डॉ.भावना कुँअर
5
काँपता रहा
लेकर पंख  गीले
मन का पंछी
कितना भिगोया है?
अम्बर क्यों रोया है?
-डॉ.ज्योत्स्ना शर्मा
6
कभी पसारो
बाँहें नभ- सी तुम
मुझे भर लो
आलिंगन में प्रिय
अवसाद हर लो ।
-डॉ.कविता भट्ट
7
आँचल फैला
रब से माँगूँ दुआ
खुशी बरसे
तेरे घर अँगना
छूटे कभी संग ना ।
-कमला निखुर्पा
8
अमलतास
लटकें हैं झूमर
फूल गिरते
पीतवर्णा वसुधा
सजी सजीली सेज।
-सुदर्शन रत्नाकर
9
साथ हमारा
धरा-नभ का नाता
मिलते नहीं
मगर यूँ लगता-
आलिंगनबद्ध हों!
-डॉ.जेन्नी शबनम
10
गगनभेदी
खड़ीं अट्टालिकाएँ
मुँह चिढ़ाएँ
ढूँढे फिर मानव
धूप-किरन खोई ।
-शशि पाधा 

10 टिप्‍पणियां:

Dr. Purva Sharma ने कहा…

आकर्षक आवरण के साथ बहुत ही सुंदर एक से बढ़कर एक ताँका .... सभी रचनाकारों को हृदयतल से बधाई ।

neelaambara ने कहा…

सम्पादक द्वय एवं सभी साथियों को हार्दिक बधाई।

Dr.Bhawna ने कहा…

Sabhi ko hardik badhai👏👏👏👏👏

dr.surangma yadav ने कहा…

सुंदर कलेवर,सुंदर अभिव्यक्ति। सभी रचनाकारों को बहुत-बहुत बधाई।

rbm ने कहा…

बहुत ही सुंदर ताँका सभी को बधाई
प्पुश्पा मेहरा

bhawna ने कहा…

एक से बढ़कर एक तांका।
सुंदर कलेवर में सजे निर्झर के लिए बहुत बहुत बधाई।

ज्योति-कलश ने कहा…

सभी को बधाई और हृदय से आभार भी !

मंजूषा मन ने कहा…

सभी ताँका बहुत सुंदर

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

सभी ताँका बहुत सुन्दर, सभी को बहुत बधाई.

Unknown ने कहा…

सभी बढिया