शुक्रवार, 31 मई 2019

864-हमारा हिन्दुस्तान


हमारा हिन्दुस्तान
डॉ0 सुरंगमा यादव

दिव्य वितान
हमारा हिन्दुस्तान
इसके तले
मिटें सारे संताप
क्लांत पथिक
यहाँ कहीं से आया
नेह-आश्रय
देकर पल में ही
ताप मिटाया
युग बीते कितने
काल-भाल पे
अंकित है स्वर्णिम
चमक रहा
सुन्दर नामांकन
इसकी रज
माथे पर शोभित
हो बारंबार
देव-मनुज सब
नमन करें
इसको शत बार
विजय श्री है
पावन कंठहार
नहीं किसी से
कभी ठानता रार
समाधिस्थ है
जाग्रत प्रतिपल
शत्रु का वार
सदा करे विफल
प्रथम कभी
करे नहीं प्रहार
जाने संसार
जियो जगत हित
है इसका उद्गार


13 टिप्‍पणियां:

neelaambara ने कहा…

हार्दिक बधाई डॉ सुरंगमा जी

Sudershan Ratnakar ने कहा…

सुंदर उद्गार। बधाई

Krishna ने कहा…

सुंदर भाव...बधाई सुरंगमा जी।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 31/05/2019 की बुलेटिन, " ३१ मई - विश्व तम्बाकू निषेध दिवस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Dr. Purva Sharma ने कहा…

सुन्दर सृजन
हार्दिक बधाई

Kamlanikhurpa@gmail.com ने कहा…

समाधिस्त है जाग्रत पल पल
अति सुन्दर चोका
बधाई सुरंगामाजी

Dr. Surendra Verma ने कहा…

Good.

मन की वीणा ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति।

dr.surangma yadav ने कहा…

आप सभी का हार्दिक आभार ।

Jyotsana pradeep ने कहा…


बहुत सुंदर सृजन ...सुरंगमा जी को हार्दिक बधाई !!

Jyotsana pradeep ने कहा…


बहुत सुंदर सृजन ...सुरंगमा जी को हार्दिक बधाई !!

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

भावपूर्ण चोका के लिए सुरंगमा जी को बधाई.

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

बेहतरीन चोका...बहुत बधाई आपको...|