रविवार, 25 नवंबर 2018

844


पाया बहुत

डॉ सुरंगमा यादव

पाया बहुत
है जग से हमने
धरा का प्यार
गगन का विस्तार
उज्ज्वल हास
रिश्ते बहु प्रकार
पर है रीता
मन का मृदु कोना
वो मन भाया
रहा सदा पराया
उम्र की नौका
लगने लगी पार
जाना ही होगा
एक दिन हमको
आगे या पीछे
जग से आँखें मींचे
तब संभव,
बदले मन भाव
पर क्या लाभ!
पछतावा ही शेष
व़क्त की रेत
हाथों से है फिसली,
तब पिघली
निष्ठुरता मन की
जिसको लिये
जीवन भर जिये
द्रवित हुए
जो मेघ समय पे
वही सार्थक
समय ग पर
जो बरसे वे व्यर्थ !
-0-



7 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच कहा जाये तो यही जीवन है ...
इसी सब करते हैं ... अच्छी रचना ....

मंजूषा मन ने कहा…

बहुत सुंदर चोका सुरंगमा जी

rameshwar kamboj ने कहा…

भावपूर्ण चोका । गहन अनूभूति की अभिव्यक्ति

अनिता मंडा ने कहा…

सुंदर चोका

ज्योति-कलश ने कहा…

सुन्दर रचना , बधाई !

Unknown ने कहा…

अति सुंदर

Unknown ने कहा…

अति सुंदर