मंगलवार, 1 अक्तूबर 2019

888


नवरात्र की तृतीया तिथि माँ के चन्द्रघण्टा रूप के अर्चना-साधना की तिथि है। भगवान शिव के साथ विवाह के बाद देवी महागौरी ने मस्तक पर अर्धचंद्र धारण किया इसलिए उनका नाम चंद्रघंटा पड़ा। देवी के इस रूप की आराधना करने से  जीवन में उन्नति, धन, स्वर्ण, ज्ञान व शिक्षा की प्राप्ति होती है। माँ चंद्रघंटा  को कनेर का फूल अत्यंत प्रिय हैमाँ चंद्रघंटा  की पूजा करने से साहस बढ़ता है और भय से मुक्ति मिलती है। माँ चन्द्रघण्टा को नमन एक सेदोका के माध्यम से।
डॉo शिवजी श्रीवास्त्व
1
चन्द्रघण्टा माँ
शिव अनुरंजिनी
धारे हैं अर्द्ध चन्द्र,
हरें बाधाएँ
ज्ञान दें समृद्धि दें
भक्तों के क्लेश हरें!
-0-

9 टिप्‍पणियां:

प्रीति अग्रवाल ने कहा…

जय माता दी!माँ की महिमा गाता अनुपम, दिव्य सेदोका। बधाई स्वीकारें भाई साहब।

शिवजी श्रीवास्तव ने कहा…

हार्दिक धन्यवाद प्रीति जी

Sudershan Ratnakar ने कहा…

माँ की स्तुति में बहुत सुंदर सेदोका।बधाई

सविता अग्रवाल 'सवि' ने कहा…

माँ को नमन करते हुए सुन्दर सेदोका |बधाई |

दिलबागसिंह विर्क ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 3.10.2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3477 में दिया जाएगा

धन्यवाद

Nitish Tiwary ने कहा…

बहुत सुंदर। जय माता दी।
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वगात है।
iwillrocknow.com

dr.surangma yadav ने कहा…

भक्ति भाव पूर्ण सुन्दर सेदोका । बधाई ।

अनीता सैनी ने कहा…

बहुत सुन्दर
सादर

Jyotsana pradeep ने कहा…

बहुत सुन्दर सेदोका ....बधाई आपको |