मंगलवार, 26 अक्तूबर 2021

997

 ताँका - सुशीला शील राणा

1.

उबार लेगा


डूबे-डूबे दिलों को

सँभाल लेगा

देव साथ तुम्हारा

हमें सँवार देगा

2.

मिलती रहीं

तारीख़ पे तारीख़

अदालतों में

होता रहा हलाल

गरीब का इंसाफ़

3.

न्याय की देवी

खोल दे काली पट्टी

अब तो रोक

न्याय के मंदिरों में

ये अन्याय का खेल

4.

धन-रसूख

खोलें रात-बेरात

कोर्ट के द्वार

कैसे देखे अँधेरा

अंधी न्याय की देवी

5.

कई वर्षों से

फाँक रही हैं धूल

दीन फाइलें

शायद खुले कभी

न्याय चक्षु से पट्टी

6.

नहीं दिखता

काले पे कोई दाग़

यही जानके

हो गए दाग़दार

कितने काले कोट 

7.

आज छज्जे पे

चहकी है ज़िंदगी

मुद्दतों बाद

खिल उठा एकांत

पाकर एक संगी।

8.

आशा की डोरी

तुम टूट न जाना

सोए ख़्वाबों ने

वक़्त के पालने में

ली हैं अँगड़ाइयाँ

9.

टूटी भी नहीं

बात बनी भी नहीं

भ्रम ने पाले

जलती सड़कों पे

कुछ भीगे सपने

 

10.

शीर्ष पे बैठी

नामचीन हस्तियाँ

खिसिया गईं

देख गर्व से तनी

अदना-सी सीढ़ियाँ

11.

दबती रही

चुप्पी के बोझ तले

कायर आत्मा

व्यवहारिक बुद्धि

जीत-जीत हारी है

12.

रोए ख़ामोश

सहके लाखों दर्द

बूढ़े माँ-बाप

ओढ़े रहे बरसों

कफ़न इज़्ज़त का

-0-

20 टिप्‍पणियां:

Rajesh bharti Haryana ने कहा…

वाह जी वाह

Dr. Purva Sharma ने कहा…

एक से बढ़कर एक बढ़िया ताँका ....

नहीं दिखता /काले पे कोई दाग़ / यही जानके / हो गए दाग़दार / कितने काले कोट

यह तो बहुत ही उम्दा

सुंदर सृजन के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें

भीकम सिंह ने कहा…

बेहतरीन,हार्दिक शुभकामनाएँ ।

शिवजी श्रीवास्तव ने कहा…

वाह,अलग अलग भावभूमि के बेहतरीन ताँका।.....
आशा की डोरी/तुम टूट न जाना/सोए ख़्वाबों ने/वक़्त के पालने में/ली हैं अँगड़ाइयाँ....बेहतरीन।हार्दिक बधाई सुशीला शील जी।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर

Sushila Sheel Rana ने कहा…

आभार राजेश जी

Sushila Sheel Rana ने कहा…

सराहना हेतु हार्दिक आभार डॉ पूर्वा।

Sushila Sheel Rana ने कहा…

धन्यवाद आदरणीय भीकम जी

Sushila Sheel Rana ने कहा…

आपकी सराहना के लिए हार्दिक आभार शिवजी सर

Sushila Sheel Rana ने कहा…

धन्यवाद आदरणीय सुशील जी

सविता अग्रवाल 'सवि' ने कहा…

भिन्न भिन्न भावों में रचे सुंदर ताँका हैं सुशीला जी । हार्दिक बधाई।

Sushila Sheel Rana ने कहा…

मेरे सृजन को आपकी सराहना मिली, हृदय से आभार सविता जी 🙏

Rashmi Vibha Tripathi ने कहा…

बहुत ही सुंदर भावों से सजे सुन्दर ताँका।
हार्दिक आभार आदरणीया।

सादर 🙏🏻

dr.surangma yadav ने कहा…

वाह! बहुत ही सुंदर ताँका।बधाई सुशीला जी।

Krishna ने कहा…

बहुत बढ़िया ताँका...।हार्दिक बधाई सुशीला जी।

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

बहुत अच्छे तांका है सभी, बहुत बधाई

Sushila Sheel Rana ने कहा…

ताँका पसंद करने के लिए धन्यवाद रश्मि जी।

Sushila Sheel Rana ने कहा…

हार्दिक आभार डॉ सुरँगमा।

Sushila Sheel Rana ने कहा…

सराहना के लिए आभार कृष्णा जी।

Sushila Sheel Rana ने कहा…

धन्यवाद प्रियंका जी ।