शनिवार, 20 फ़रवरी 2016

684



1-डॉ सरस्वती माथुर
1
बच्चों की नींद
सपनों की तितली
पकड़ने को दौड़ी
हवा के संग
मन फूलों की गंध
जीवन में आ फैली ।
2
कागा बोला तो
तुम याद आ ग
चौखट मुँडेर पे
धूप ढली तो
हवा पाज़ेब बोली-
शायद वो आ ग
3
हरसिंगार
अल्लसुबह झर
मन को बुहारता
धूप आती तो
दर्द  को पी कर के
दूर निकल जाता ।
-0-
2- अनिता मंडा
1
हल्दी कुंकुम
रंगे हैं हम-तुम
एक-दूजे के रंग।
कोरा है मन
लिख दिया अर्पण
छूटे न यह रंग।
-0-
3-माहिया
-डाँ सरस्वती माथुर
1
मन में चमके तारे
यादों के पाखी
उड़ते मन के द्वारे ।
2
कब आयेगी पाती
बैठी हूँ साजन
करके दीया बाती
3
सपने ठहरे -ठहरे
ज़ख़्म दिये तूने
हैं बहुत अधिक गहरे।
4
उड़ता मन का पाखी
तेरी यादों की
हाला मैंने चाखी ।
-0-

14 टिप्‍पणियां:

ज्योति-कलश ने कहा…

bahut sundar rachanaayen ..
haardik badhaaii anita ji evam saraswati mathur ji

मेरा साहित्य ने कहा…

उड़ता मन का पाखी
तेरी यादों की
हाला मैंने चाखी ।
bahut khoob
badhai
rachana

मेरा साहित्य ने कहा…

बच्चों की नींद
सपनों की तितली
पकड़ने को दौड़ी
हवा के संग
मन फूलों की गंध
जीवन में आ फैली ।
sunder bhav
rachana

मेरा साहित्य ने कहा…

हल्दी कुंकुम
रंगे हैं हम-तुम
एक-दूजे के रंग।
bahut sunder soch sunder shabd
rachana

Amit Agarwal ने कहा…

सुन्दर रचनाएँ! सरस्वती जी, अनिता जी शुभकामनायें!

Sudershan Ratnakar ने कहा…

बहुत सुंदर रचनाएँ । डाँ सरस्वती जी अनिताजी हार्दिक बधाई।

Unknown ने कहा…

सुंदर रचनाएँ

सविता अग्रवाल 'सवि' ने कहा…

सरस्वती जी और अनीता जी सुन्दर रचनाएँ हैं हार्दिक बधाई ।

Dr.Bhawna ने कहा…

Sabhi rachnayen bahut bhavpurn hain meri sabhi ko hardik shubhkamnayen....

Jyotsana pradeep ने कहा…

बहुत सुंदर रचनाएँ । डाँ सरस्वती जी अनिताजी हार्दिक बधाई।

Anita Lalit (अनिता ललित ) ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
Anita Lalit (अनिता ललित ) ने कहा…

बहुत सुंदर एवं मनमोहक प्रस्तुति !
हार्दिक बधाई सरस्वती जी एवं अनीता !

~सादर
अनिता ललित

Dr. Surendra Verma ने कहा…

bahut sundar rachnayn !!

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

सभी सेदोका और माहिया बहुत पसंद आए...हार्दिक बधाई...|