मंगलवार, 30 नवंबर 2021

1009-आ बैठी मन- द्वारे

 

रश्मि विभा त्रिपाठी

1

प्रिय! श्रेष्ठ है


मात्र ये मन- प्रांत

वातावरण शांत

भाव- आसन्दी

बिछी कोमलकांत

आओ करें वृत्तांत।

2

तुमने टाँके

मेरे अंक में तारे

मिटाए अँधियारे

अपने सुख

मुझपे सदा वारे

प्रिय! तुम हो न्यारे।

3

मन उन्मन

जब- जब भी हारे

उनको ही पुकारे

प्रिय आ बालें

घर- आँगन- द्वारे

धैर्य- दीपक न्यारे।

4

मेरे प्रिय का

मधुर व्यवहार

मेरी मुक्ति का द्वार

जब सुनें वे

करुणा की पुकार

कष्टों से लें उबार।

5

अलि मैं सदा

जाती हूँ साधिकार

मेरे प्रिय के द्वार

वे भर देते

अंक में हर बार

प्रेम- निधि अपार।

6

प्रिय तुमने

प्यासे मन की प्याली

कभी न रखी खाली

नित्य उड़ेली

प्रेम- सुधा निराली

झूमूँ मैं मतवाली।

7

प्रिय सजाएँ

श्रद्धा से सदा थाली

जीमूँ हो मतवाली

भर देते हैं

रीते मन की प्याली

व्यंजन शोभाशाली।

8

माँगे सदैव

मनोकामना क्या- क्या

प्रिय- प्रेमिल- प्रज्ञा

अनुमोदित

अर्जी विशेषतया

हैं सहाय माँ आद्या।

9

प्रिय तुम्हीं से

रूप- रस औ गंध

जीवन- गीत- छंद

तोड़करके

दुख का तटबंध

मन गाता स्वच्छंद।

10

धरे देहरी

दुआ- दीप हजार

दीप्तिमान अपार

प्रियवर का

पुनीत यह प्यार

प्रकाश का त्योहार।

11

प्रिय ने जड़े

आँचल में आ तारे

औ सुख-नग सारे

ओढ़े ओढ़नी

आ बैठी मन- द्वारे

ओझल अँधियारे।

12

गाते हैं गीत

अति मधुरतम

आशा के विहंगम

प्रिय सजाएँ

स्नेह की सरगम

संगीत निरुपम।

13

प्रिये तुम्हारा

प्रार्थना का प्रबंध

देता दिव्य आनंद

मैं मुकुलित

मिटा सकल द्वंद्व

फैली सुख- सुगंध।

14

 लिख दिए हैं

तुमने मेरे नाम

सारे सुख- आराम

प्रेम तुम्हारा

परमानंद धाम

प्रिय! तुम्हें प्रणाम।

15

प्रिय तुम्हारी

निश्चल-नेह छाया

मैंने जीवन पाया

आकुलता में

आके कण्ठ लगाया

सोया सुख जगाया।

-0-

10 टिप्‍पणियां:

भीकम सिंह ने कहा…

बहुत सुन्दर सेदोका, हार्दिक शुभकामनाएँ ।

शिवजी श्रीवास्तव ने कहा…

प्रिय के प्रेम से आच्छादित जीवन के आनन्द की अभिव्यक्ति के सुंदर सेदोका।हार्दिक बधाई।

चिराग: Chirag Patel ने कहा…

अति कोमल भाव निरुपण - पवित्र निर्मल उल्लास से भरपूर

Krishna ने कहा…

अति सुंदर भावपूर्ण सेदोका...बहुत-बहुत बधाई।

dr.surangma yadav ने कहा…

बहुत सुंदर सेदोका।हार्दिक बधाई। ।

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

बहुत भावपूर्ण सेदोका, हार्दिक बधाई!

Anima Das ने कहा…

अत्यंत भावपूर्ण सृजन...आपको हार्दिक बधाई 💐🌹

Ramesh Kumar Soni ने कहा…

भावपूर्ण सेदोका-बधाई।
प्रभू और भक्त पर जितना भी लिखा जाए कम ही होता है और वह सदा नया ही लगता है।
शुभकामनाएँ।

Rashmi Vibha Tripathi ने कहा…

मेरे सेदोका प्रकाशित करने हेतु आदरणीय सम्पादक जी का हार्दिक आभार।
आप सभी आत्मीयजनों की टिप्पणी की हृदय तल से आभारी हूँ।

सादर

सविता अग्रवाल 'सवि' ने कहा…

बहुत सुंदर सेदोका हैं रश्मि जी | हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं |