शनिवार, 15 अगस्त 2015

राष्ट्र-निशान

1-शशि पाधा
1
वीरों ने ठानी है
सेवा भारत में  
निज शपथ निभानी है |
2
हो आन तिरंगे की
जग में ऊँची हो  
बस शान तिरंगे की |
3
पर्वत अभिमान करें
गाथा वीरों की
गाएँ ,जयगान करें |
4
आज़ादी पर्व हुआ
वीरों के कारण
जन-जन को गर्व हुआ |
5
निज शीश झुकाती हैं
शीत हवाएँ भी
गुणगान सुनाती हैं |
-0-

2-पुष्पा मेहरा

   
राष्ट्र-निशान

 देखता वो गगन

 उगता जहाँ

 पूर्व से प्रतिदिन

 लाल सूरज,

 सप्त अश्व पे आता

 और दे जाता

 प्रकाश का सागर

 ऊर्जा उसकी

 भर लेती दिशाएँ

 निज कुक्षि  में,

 उगती है केसर

 जगातीं शौर्य

 हो जाता केसरिया

 तन औ मन ,

 आके छा जाते घन

 जगाते स्वप्न

  जा सो गए कहीं  जो

 अंधकार में ।

 खोज रहा आज भी

 ध्वज ये प्यारा

 कोठे धन-धान्य के

 ताज सोने का।

 पर वक़्त की मार

 होती है बुरी,

 इसीलिए खड़ा है

 अशांतमना

अपनी राह पर

 गति से भरा ,

 प्रगति - चक्र धार

 छोड़ निराशा

  माँ धरा की गोद में

 प्रसन्न मन

  "सार्थक होंगे स्वप्न"

 विश्वास जगा रहा ।

-0-

  पुष्पा मेहरा,

 बी-२०१, सूरजमल विहार

 दिल्ली-९२ फ़ोन: ०११-२२१६६५९८


12 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

पुष्पा मेहरा का राष्ट्र निशान पर चोका बहुत बढिया लगा ।राष्ट्र निशान कीमहिमा और इस में स्तुति ही नही राष्ट्र निशान की उम्मीदें भी लगी हैं पहले जैसी देश की छवि देखने की कामना भी है देश के कोठे धन धान्य से भरे हुये और सोने का ताज पहने देखने की।आशा वादी मंगलकामना के साथ समाप्ति मन को भा गई ।१५ अगस्त की आप को सारे देश वासियों बहुत बहुत वधाई ।

Dhingra ने कहा…

पुष्पा मेहरा का राष्ट्र निशान पर लिखा बहुत बढ़िया लगा।

अनिता मंडा ने कहा…

बहुत सुंदर प्रेरक चोका।शुभकामनाएँ।

ज्योति-कलश ने कहा…

देशभक्ति से परिपूर्ण बहुत सुन्दर रचनाएँ !

मोहक माहिया और सारगर्भित चोका के लिए पुष्पा दीदी और शशि दीदी को हार्दिक बधाई !

जय हिन्द !शुभ स्वाधीनता दिवस !

Krishna ने कहा…

बहुत सुन्दर चोका और माहिया...पुष्पा जी, शशि जी हार्दिक बधाई!

सविता अग्रवाल 'सवि' ने कहा…

शशि जी देश पर न्योछावर हो जानी वाले वीरों और देश भक्ति से पूर्ण माहिया बहुत खूब रचे हैं .पुष्पा जी आपका चोका भी राष्ट्र निशान और देश भक्ति जाग्रृत करता है .आप दोनों को हार्दिक बधाई और सभी रचनाकारों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं .

Pushpa mehra ने कहा…

shashi ji apake rache mahiya bahut achhe lage .visheshroop se : ho aan tirange ki....
aur aazaadi parv huaa \veeron ke kaaraN...... bahut hi achhe lage. badhai.
pushpa mehra.

Shashi Padha ने कहा…

पुष्पा मेहरा जी, विशवास और संकल्प को न्यौता देता आपका यह चौका बहुत प्रेरक भी है | हर शब्द में एक नई बात है जो ऊपर के अंश से सहज ही जोडती है | नियमित शब्दों में अपने बात कहना एक विशेष कला है और इस के लिए मैं आपको बधाई देती हूँ | आपका बहुत धन्यवाद माहिया को सराहने के लिए |

सादर,
शशि पाधा

सविता जी, कृष्णा जय, कमला जी, ढींगरा जी ,ज्योति जी , अनीता जी , आप सब का हार्दिक धन्यवाद |

अनिता मंडा ने कहा…

शशि जी , पुष्पा जी बेहद सुंदर रचनाओं के लिए हार्दिक बधाई।

Dr.Bhawna ने कहा…

bahut khub! shubkamnayen....

Anita Lalit (अनिता ललित ) ने कहा…

देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत माहिया एवं चोका-बहुत सुंदर !
हार्दिक बधाई शशि दीदी एवं पुष्पा जी!

~सादर
अनिता ललित

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

मन में देशभक्ति की उमंग जगाती रचनाओं के लिए ढेरों बधाई...|