बुधवार, 27 मार्च 2013

महकता आज भी


डॉ भावना कुँअर

होली में तूने
पिछले बरस जो
लगाया था गुलाल
खुशबू बन
महकता आज भी
मेरे कपोलों पर।

6 टिप्‍पणियां:

Krishna ने कहा…

बहुत प्यारा सेदोका है भावना जी बधाई।

Krishna ने कहा…

बहुत प्यारा सेदोका है भावना जी बधाई।

Madan Mohan Saxena ने कहा…



हृदयस्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति.बहुत शानदार भावसंयोजन .आपको बधाई.होली की हार्दिक शुभ कामना .


ना शिकबा अब रहे कोई ,ना ही दुश्मनी पनपे
गले अब मिल भी जाओं सब, कि आयी आज होली है

प्रियतम क्या प्रिय क्या अब सभी रंगने को आतुर हैं
हम भी बोले होली है तुम भी बोलो होली है .

Pratibha Verma ने कहा…



बहुत सुन्दर।। होली की हार्दिक शुभकामनाएं
पधारें कैसे खेलूं तुम बिन होली पिया...

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

होली के रंग से भरे इस खूबसूरत सेदोका के लिए बधाई भावना जी...|
बधाई...|

ज्योति-कलश ने कहा…

बहुत सुन्दर रंग लिये मोहक सेदोका ...बहुत बधाई आपको !!
सादर
ज्योत्स्ना शर्मा